कागज़ और स्याही | Kaagaj aur Syaahi

मैं कोरा था,
तुम रंगीन थी,
जब मिले हम दोनों,
दामन मेरा रंग गया,
तुम खर्च होती गयी,
मैं निखरता चला गया,
अंत में ना मैं, मैं रहा,
ना तुम, तुम रही,
मैं बदल सा गया,
तुम पूरी खर्च हो गयी,
अपना अलग कोई वजूद न रहा,
बस हम दोनों की तासीर रह गयी,
और मेरे दामन पर बिखरे,
तुम्हारे रंगों की तस्वीर रह गयी।

abhisekonline_kaagajaursyaahi.jpg

__________________________________________________
In Hinglish

main kora tha,
tum rangeen thi,
jab mile ham dono,
daaman mera rang gaya,
tum kharch hoti gayi,
main nikharta chala gaya,
ant me naa main, main raha,
naa tum, tum rahi,
main badal sa gaya,
tum puri kharch ho gai,
apna alag koi vajood na raha,
bas ham dono ki taaseer rah gayi,
aur mere daaman par bikhre,
tumhaare rangon ki tasveer rah gayi.

abhisekonline_kaagajaursyaahi_1.jpg

 

Note: Taaseer means ‘Impression’.

Advertisements

तमाशा

कौन जीता है आजकल, किसी और के लिए,
हमने यहाँ रोज, मोहब्बत के तमाशे देखे हैं।

तमाशा.jpg

कर लो मोहब्बत

की दुनिया में आये हो तो,
एक बार मोहब्बत जरूर करना,
खुद के लिए तो उम्र भर जीते हो,
कुछ उम्र किसी और के नाम कर देखना,

एक नशा है ये जिंदगी का,
बिन इसके जिए तो क्या किये,
दो पल की तो जिंदगी है,
एक पल जी लो किसी और के लिए।

कर लो मोहब्बत.jpg

इल्म

उन्हें ये इल्म है की हम उनसे मोहब्बत करते हैं,
वर्ना यूँ रोज, झरोखे से हमें निहारा नहीं करती।

इल्म

तुम्हारी मोहब्बत

तुम्हारी मोहब्बत में कुछ तो बात है,
तुमसे दूर होकर भी तुम्हारा साथ है,
अकेला हूँ, पर अकेलापन महसूस नहीं होता,
पास नहीं, पर यादों में हरदम साथ है,

ये जो फासलें हैं हमारे दरमियान,
वक़्त के साथ जल्द ही मिट जाएंगे,
वो पल वो शमाँ कुछ और होगा,
होंगे रूबरू और बाहों में सिमट जाएंगे।

तुम्हारी मोहब्बत.jpg